बुधवार, 1 फ़रवरी 2012

तुम तूफ़ान समझ पाओगे?


हरिवंशराय बच्चन

8. तुम तूफ़ान समझ पाओगे

तुम तूफ़ान समझ पाओगे?

गीले बादल, पीले रजकण,
सूखे पत्ते, रूखे तृण घन
लेकर चलता करता ‘हरहर --- इसका गान समझ पाओगे?
तुम तूफ़ान समझ पाओगे?

गंध-भरा यह मंद पवन था,
लहराता  इससे मधुवन था,
सहसा इसका टूट गया जो स्वप्न महान, समझ पाओगे?
तुम तूफ़ान समझ पाओगे?

तोड़-मरोड़  विटप-लतिकाएं,
नोच-खसोट कुसुम-कलिकाएं,
जाता है अज्ञात दिशा को! हटो विहंगम, उड़ जाओगे!
तुम तूफ़ान समझ पाओगे?

13 टिप्‍पणियां:

  1. गहन विचार देती रचना ...
    आभार इसे पढवाने के लिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बच्चन जी की एक दार्शनिक भावों से पूर्ण रचना!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. तूफ़ान के अंतर्मन में झाँकती और एक नये दृष्टिकोण से उसे व्याख्यायित करती अनमोल रचना ! आभार इसे हम तक पहुंचाने के लिये !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहद गहन रचना पढवाने के लिये आभार्।

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक गहन,सुन्दर रचना पढवाने का आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  6. गहन,और खूबसूरत रचना यहाँ पढ़वाने के लिए आपका आभार समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  7. तुम तूफ़ान समझ पाओगे?
    सिमसिम की तरह अब खुला है भेद बिग बी की दाढ़ी का .

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    http://charchamanch.blogspot.in/2012/02/777.html
    चर्चा मंच-777-:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक गहन दार्शनिक चिंतन से उपजी काव्य-माधुरी.

    उत्तर देंहटाएं
  10. हरिवंश जी की रचना !!..
    धन्यवाद ,हमारे समक्ष प्रस्तुत करने के लिए
    kalamdaan.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  11. गहन चिंतनपूर्ण रचना पढवाने के लिये आभार..

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें