रविवार, 30 मई 2010

आज का विचार

आज का विचार

::

साहित्य

J0178932

साहित्य समाज का दर्पण होता है।

3 टिप्‍पणियां:

  1. बिल्कुल सही। "साहित्य की महत्ता" शीर्षक वाले निबन्ध के अन्तर्गत डा0 हजारी प्रसाद द्विवेदीजी ने यह बात शायद कही है।

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें