शनिवार, 13 मार्च 2010

आज का विचार-18

टूटे सुजन मनाइए जो टूटे सौ बार ।

रहिमन फिर फिर पोहिए, टूटे मुक्ताहार ।।

मुक्ताहार यदि टूट जाता है तो फिर-फिर उसे पोहना चाहिए, मानव मूल्यों से लगाव छूट जाता है तो फिर-फिर जोड़ना चाहिए ।

4 टिप्‍पणियां:

  1. पहली बार पढ़ा आपका ब्लाग मनोज भाई , विशिष्ट लगा अपने क्षेत्र में , आपका यह प्रयास प्रसंशनीय है , शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रोत्साहन के लिए आभारी हूँ...
    मनोज

    उत्तर देंहटाएं
  3. मनोज भाई, यह काम भी आप अच्छा ही कर रहे हैं!

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें