बुधवार, 3 मार्च 2010

आज का विचार-9

आज का विचार


भलाई


भलौ भलाईहि पै लहर लहर निचाइहि नीचु ।

सुधा सराहिअ अमरता गरल सराहिअ मीचु

भला भलाई ही ग्रहण करता है और नीच नीचता को ही ग्रहण किए रहता है। अमृत की सराहना अमर करने में होती है और विष की मारने में।

2 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें