सोमवार, 15 मार्च 2010

कम्प्यूटर क्यों फार्मेट करना चाहिए तथा इसका क्या महत्व है

कम्प्यूटर क्यों फार्मेट करना चाहिए तथा इसका क्या महत्व है ?

कम्प्यूटर फार्मेट करने का अर्थ है आपके कम्प्यूटर में विद्यमान पुराने समस्त डेटा से हाथ धोना । इसमें ऑपरेटिंग सिस्टम, प्रोग्राम,-मेल, ड्राइव, चित्र आदि सभी कुछ का समावेश होता है । आपके प्रोग्राम के समस्त अपडेट नष्ट हो जाएंगे । वस्तुत: अपडेट ही नहीं बल्कि आपके सारे प्रोग्राम्स ही गायब हो जाएंगे। कम्प्यूटर की फार्मेटिंग अर्थात आपका कम्प्यूटर पूर्णत: नया न जाएगा बिलकुल वैसा जैसा आपके द्वारा खरीदने के समय था। कम्प्यूटर फार्मेटिंग का तातर्र्प्य विद्यमान हार्डडिस्क की फार्मेटिंग से है। हार्डडिस्क आपके कम्प्यूटर का प्रमुख भंडारण कम्पोनेन्ट होता है तथा इसे सामान्यत: कम्प्यूटर के C ड्राइव के रूप में जाना जाता है।

कम्प्यूटर फार्मेट करने के कारण :-


* कम्प्यूटर में नया ऑपरेटिंग सिस्टम इन्स्टाल करने के लिए।

* मुख्य हार्ड डिस्क को नए हार्डडिस्क से प्रस्थापित किए जाने पर नए हार्डडिस्क को फार्मेट किया जाना हो।

* कभी-कभी आपका कम्प्यूटर आरम्भ नहीं होता है । ऐसी स्थिति में फार्मेटिंग इस समस्या का समाधान दे सकता है।

* गहन सॉफ्टेवयर संबंधी त्रुटि जिसे ठीक करना काफी दुरूह कार्य हो, तब फार्मेटिंग की आवश्यकता होती है।

* ऐन्टी वायरस के प्रयोग के बावजूद भी वायरस नहीं डिलिट होता हो, तब फार्मेटिंग से वायरस सामप्त हो जाता है।

कम्प्यूटर फार्मेटिंग संबंधी पूर्वोपाय :-


* कम्प्यूटर में विद्यमान महत्वपूर्ण फाइलों का बैकअप लिया जाना नितांत आवश्यक है। यह कम्प्यूटर फार्मेटिंग प्रक्रिया का सर्वाधिक कठिन एवं महत्वपूर्ण कार्य है क्योंकि यदि आप किसी महत्वपूर्ण फाइल का बैकअप लेना भूल जाते हैं वह फाइल आप पुन: नहीं प्राप्त कर सकते है।

* फार्मेटिंग हेतु आपको मूल सिस्टम डिस्क की आवश्यकता पड़ेगी। इसमें ड्राइवर डिस्क तथा विन्डोज ऑपरेटिंग डिस्क का समावेश होगा।

* वस्तुत: आपको फार्मेटिंग संबंधी समस्त जानकारियों को जानना होगा।


कम्प्यूटर फार्मेटिंग उपरान्त रिस्टोर किए जाने वाले प्रोग्राम एवं डेटा :

1. ऑपरेटिंग सिस्टम इन्स्टाल करने के पश्चात एन्टी वायरस सॉफ्टवेयर इन्स्टाल किया जाना नितांत आवश्यक है।

2. कम्प्यूटर में ड्राइवर इन्स्टाल करें । सामान्यत: यह ध्वनि,नेटवर्क एडाप्टर, डिसप्ले अथवा ग्राफिक्स ड्राइवर होते हैं।

3. इंटरनेट कनेक्शन स्थापित करें । इथरनेट कार्ड अथवा वायरलेस सिग्नल की पहचान हेतु आपके कम्प्यूटर में नेटवर्क एडाप्टर इन्स्टाल किया जाना परम आवश्यक है ।

4. एन्टीवायरस तथा आपके विन्डोज ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए अपडेट्स डाउनलोड करें।

5. आउटलुक एक्सप्रेस के माध्यम से ई-मेल एकाउन्ट स्थापित करें।

6. सेव किए गए सेटिंग्स को इम्पोर्ट करें I फार्मेटिंग पूर्व लिए गए बैकअप फाइलों को अपने कम्प्यूटर में रिस्टोर करें।

7. अन्य सभी प्रोग्राम को इन्स्टाल करें।

नोट :

* आप अपने कम्प्यूटर के मुख्य आपरेटिंग सिस्टम एवं डेटा को प्रभावित किए बिना स्पेयर हार्ड ड्राइव अथावा पोर्टेबल डिवाइस को फार्मेट कर सकते हैं ।

* अपने कम्प्यूटर को स्वच्छ रखने से बैकअप लेने में सहजता होती है। इस प्रकार आप जान सकते है कि कौन सी महत्वपूर्ण फाइल आपने कहाँ सेव की है तथा उसे आसानी से उसका बैकअप लिया जा सकता है।

कभी -कभी कम्प्यूटर फार्मेटिंग एक दुभर कार्य हो सकता है किन्तु यदि आप अपने कम्प्यूटर बैकअप लिए जाने योग्य महत्वपूर्ण फाइलों को उपयुक्त स्थान पर सेव करने की आदत बना लेंगे तो फार्मेटिंग प्रक्रिया कदापि जटिल कार्य नहीं होगा।

विन्डोज एक्स.पी.सी.डी. का प्रयोग कर कम्प्यूटर को किस प्रकार फार्मेट किया जाए


विन्डोज एक्स.पी. डिस्क बूटेबल सी .डी. होती है तथा यह फार्मेटिंग कार्य सहजता से करने में सहायक होती है। जैसे ही आप इसे सी.डी. रॉम में डालते हैं, यह स्वत: ही आरम्भ हो जाती है । फार्मेटिंग आरम्भ करने से पूर्व समस्त आवश्यक फाइलों का बैकअप लेना न भूलें। इस प्रक्रिया में यह ध्यान रखें कि आपके कम्प्यूटर के साथ प्राप्त सिस्टम डिस्क, डिसप्ले ड्रायवर, लेन ड्रायवर, यू.एस.बी.,आडियो ड्रायवरस आदि हो। यदि यह आपके पास नहीं हैं तो एक्स.पी.टूल्स नामक प्रोग्राम रन करें ; यह प्रोग्राम आपके कम्प्यूटर में विद्यमान समस्त आवश्यक ड्रायवरों को संचित करते हुए इएक्ससी फाइल का रूप प्रदान कर देगा। फार्मेटिंग उपरान्त इस इएक्ससी फाइल को सक्रिय करने पर इसके द्वारा आपके कम्प्यूटर में आवश्यक विविध ड्रायवर पुन: स्थापित हो जाएंगे।

फार्मेटिंग प्रकिया


1. सर्वप्रथम आप अपना विंडोज एक्स.पी. सी.डी. कम्प्यूटर के सी.डी.रॉम ड्राइव में डालें ।

2. अपने कम्प्टर को रिस्टार्ट करें।

3. जब आपके कम्प्यूटर पर सी.डी. से बूट करने संबंधी निदेश प्रदर्शित होंगे तो, की-बोर्ड में विद्यमान किसी भी कुँजी को दबाएं।

4. यदि इस प्रकार का कोई निदेश नहीं प्रदर्शित होता है तो पुन: कम्प्यूटर को रिस्टार्ट करें।

5. अपने कम्प्यूटर के बायोस सेटिंग में जाएं ;सामान्यत: F1, F2, F10 अथवा डिलिट कुँजी दबाकर पूर्वोक्त सेटिंग में प्रवेश किया जा सकता है । यदि आप इस संबंध में निश्चित नहंीं हैं तो स्टार्टअप के दौरान स्क्रीन पर प्रदर्शित निदेश को देखें । जो स्वत: ही निदेश प्रदान करेगा कि बायोस सेटिंग में प्रवेश करने के हेतु ............... कुँजी दबाएं। प्रदर्शित निदेश का पालन करते हुए आप तुरंत ही निदेशित कुँजी दबा दें । यदि ऐसा करने में आपसे चूक हो जाती है तो पुन: कम्प्यूटर को रिस्टार्ट करें। जैसे ही आप बायोस सेटअप में पहँुचते हैं वेसे ही आपको बूट सी.डी. को प्रथम बूट विकल्प बनाना होगा । अब उक्त सेटिंग को संचित कर एक्जिट बटन दबा दें।

6. अब अगले चरण में कम्प्यूटर पर नीले रंग की स्क्रीन उभर आएगी और फार्मेटिंग प्रक्रिया आरभ हो जाएगी।

7. अब विन्डोज एक्स.पी.संस्थापना के लिए एन्टर कुँजी दबाएं।

8. यदि आपके कम्प्यूटर में विन्डोज एक्स.पी.की प्रति विद्यमान है तथा उसे आप ओवरराइट करने के इच्छुक हैं तो निदेश प्राप्त होने के साथ ही एस्केप बटन दबाएं। बिना जाने-बुझे कदापि विन्डोज एक्स.पी. अन्य डायरेक्टरी में इन्स्टाल न करें ।


9. हार्डडिस्क का पार्टिशन बनाने के लिए की- बोर्ड पर विद्यमान C कुँजी दबाएं । ऐसा करते ही सिस्टम पार्टिशन साइज का उल्लेख करने हेतु निदेश देगा। यदि आप अपने 300 जी.बी. हार्डडिस्क का दो समान भाग में पार्टिशन करना चाहते है तो उसे 150-150 जी.बी. की संख्या का निदेशित स्थान पर टाइप करे दें। अन्यथा विन्डोज स्वयं ही हार्डडिस्क की न्यनतम क्षमता वाला पार्टिशन तैयार कर देगा। यदि आवश्यकता हो तो पुन: C दबाकर अलग पार्टिशन तैयार किया जा सकता है।

10. पार्टिशन डिलिट करने हेतु कुँजीपटल पर विद्यमान D कुँजी को दबाएं। पार्टिशन डिलिट करने के पुष्टि स्वरूप L कुँजी दबाएं।

12. अगले चरण में सिस्टम पार्टिशन विशेष में विन्डोज इन्स्टाल करने हेतु निदेश मॉगेगा । विन्डोज इन्स्टाल करने के लिए C: ड्राइव डिफाल्ट होता है । अत: उक्त का चयन कर इन्टर बटन दबाएं।

13. अब सिस्टम FAT32 अथवा NTFS में शीघ्र या सामान्य फार्मेट किए जाने हेतु निदेश मॉंगेगा। FAT32 विन्डोज 98 जैसे पुराने कम्प्यूटरों को सूट करता है जबकि NTFS नए को । अत: सिस्टम के कॉंफिग्रेशन अनुसार FAT32 अथवा NTFS विकल्प का चयन करें। ध्यान रखे की स्लो फार्मेट का विकल्प सदैव ही उपयुक्त होता है इसे लो लेवल फार्मेट के रूप में भी जाना जाता है तथा इसमें त्रुटि आने की सम्भावना कम होती है।

14. अब केवल आदेशों के अनुरूप कार्य करते जाएं और सिस्टम को अपना कार्य करते रहने दें।

15. कुछ समय पश्चात कम्प्यूटर स्वत: ही रिस्टार्ट होकर पुन: सी.डी. से बूट होगा । इस दौरान आप कोई भी कुँजी न दबाएं। सिस्टम को अपना कार्य करने दें। सिस्टम स्वत: सेटअप के विविध चरणों की प्रक्रिया पूर्ण करेगा।

16. सुनिश्चित कर लें कि विन्डोज एक्.पी. सी.डी. का सीरियल नम्बर प्रविष्ट करने हेतु आपके पास तैयार हो । यह आपके को- सर्टिफिकेट में होता है जिसे सी.पी.यू. के बगल में स्टिकर के रूप में लगाया जाता है।

17. विन्डोज एक्.पी.सी.डी. को सी.डी. रॉम ड्राइव से तब तक नहीं निकाले जब तक नए डेस्कटॉप एवं ऑयकन के साथ आरम्भ न हो जाए।


5 टिप्‍पणियां:

  1. आजकल अच्छा लेख पडने को मिल रहे है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आजकल अच्छा लेख पडने को मिल रहे है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छी जानकारी है. लेकिन बहुत कम समस्याओं के लिए कम्प्युटर फॉरमेट करना पड़ता है जबकि तकनीक के कम जानकार छोटी-छोटी बातों पर भी फौर्मेटिंग की सलाह दे देते हैं. मेरे दफ्तर में ठेके पर काम करने वालों को जब कोई प्रोब्लम का निदान करना नहीं आता है तो वे सीधे फॉरमेट चला देते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  4. महत्‍वपूर्ण जानकारी के लिए धन्‍यवाद ।

    - राजेन्‍द्र कुमार मोदी, श्री गंगानगर।

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें