मंगलवार, 6 दिसंबर 2011

सांध्यतारा क्यों निहारा जायेगा

IMG_0601आचार्य जानकीवल्लभ शास्त्री की कविताएं-5

सांध्यतारा क्यों निहारा जायेगा


सांध्यतारा क्यों  निहारा जायेगा ।
और मुझसे मन न मारा जायेगा ॥

विकल पीर निकल पड़ी उर चीर कर,
चाहती  रुकना  नहीं इस  तीर पर,
भेद,  यों,  मालूम है पर पार का
धार  से  कटता  किनारा जायेगा ।

चाँदनी छिटके,  घिरे तम-तोम या
श्वेत-श्याम वितान यह कोई नया ?
लोल  लहरों  से ठने  न बदाबदी,
पवन पर जमकर विचारा जायेगा ।

मैं न  आत्मा का हनन कर हूँ जिया
औ, न मैंने अमृत कहकर विष पिया,
प्राण-गान  अभी चढ़े  भी तो गगन
फिर गगन  भू पर  उतारा जायेगा ।

10 टिप्‍पणियां:

  1. मैं न आत्मा का हनन कर हूँ जिया
    औ, न मैंने अमृत कहकर विष पिया,

    क्या कहने !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आहा..!
    इस प्रस्तुति के लिए कोटिशः आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  3. कितने आत्मविश्वास का परिचायक और आत्माभिमान का प्रतिनिधित्व करता है अंतिम छंद.. बिलकुल शास्त्री जी के जीवन जैसा!! प्रेरक!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. खूबसूरत प्रस्तुति ||
    बहुत बहुत बधाई ||

    terahsatrah.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. कितनी सुन्दर अभिव्यक्ति है. आभार.

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें