बुधवार, 21 मार्च 2012

यह पपीहे की रटन है


हरिवंशराय बच्चन

11. यह पपीहे की रटन है

यह पपीहे की रटन है !

बादलों  की घिर घटाएं
भूमि की लेती बलाएं ,
खोल दिल देती दुआएं देख किस उर में जलन है?
यह पपीहे की रटन है !

जो  बहा  दे, नीर आया,
आग का फिर तीर आया,
वज्र भी बेपीर आया कब रुका इसका वचन है?
यह पपीहे की रटन है !

यह न पानी से बुझेगी,
यह न पत्थर से दबेगी,
यह न शोलों से डरेगी, यह वियोगी की लगन है!
यह पपीहे की रटन है !
***

18 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....
    इंडिया दर्पण की ओर से शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....
    इंडिया दर्पण की ओर से शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी पोस्ट कल 22/3/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    http://charchamanch.blogspot.com
    चर्चा - 826:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut hi sundar rachna ki prastuti
    papiha ke bare me jane is blog par
    www.bebkoof.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. यह न पानी से बुझेगी,
    यह न पत्थर से दबेगी,
    यह न शोलों से डरेगी, यह वियोगी की लगन है!
    यह पपीहे की रटन है !
    ***bahut achcha lga padhkr......

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूबसूरत....
    बच्चन साहब का कोई जवाब नहीं...
    सांझा करने का शुक्रिया मनोज जी.

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  7. खूबसूरत रचना पढ़वाने के लिए आभार ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस रचना को यहाँ पढ़वाने के लिए आभार ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बच्चन तो आखिर बच्चन ही हैं -यह पपीहे की रटन है !

    उत्तर देंहटाएं
  10. यह न पानी से बुझेगी,
    यह न पत्थर से दबेगी,
    यह न शोलों से डरेगी, यह वियोगी की लगन है!
    यह पपीहे की रटन है !
    दर्द नशा है इस मदिरा का, विगत स्मृतियाँ साकी हैं

    पीड़ा में आनंद जिसे हो ,आये मेरी मधुशाला .
    वही सर्व व्यापी पीड़ा की अभियक्ति यहाँ भी है .

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर शब्दों का संसार!...सुन्दर प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें