सोमवार, 21 फ़रवरी 2011

बंदिशें और ज़िंदगी

बंदिशें ज़िन्दगी में
हर पल कुछ यूँ
हावी हो जाती हैं
चाहता है कुछ मन
पर ख्वाहिशें
पूरी नही हो पाती हैं ।
यूँ तो हम सब
ज़िन्दगी जी ही लिया करते हैं
सुख के पल भी ज़िन्दगी में
अनायास ही पा लिया करते हैं ।
हंस लेते हैं महज़ हम
इत्तफाक से कभी कभी
खुश हो लेते हैं यह सोच
कि ज़िन्दगी में कोई कमी तो नही ।
पर गायब हो जाती है मुस्कान
ये सोच कि -
हम कौन सा पल
अपने लिए जिए ?
अब तक तो मात्र
सबके लिए फ़र्ज़ पूरे किए।
ढूंढे से भी नही मिलता वो एक पल
जो हमने अपने लिए जिया हो
बंदिशों के रहते
किसी पल को भी अपना कहा हो।
रीत जाती है ज़िन्दगी
बस यूँ ही चलते - चलते
बीत जाती है ज़िन्दगी 
बंदिशों में ढलते - ढलते |



संगीता स्वरुप 

20 टिप्‍पणियां:

  1. बस यूँ ही चलते - चलते
    बीत जाती है ज़िन्दगी
    बंदिशों में ढलते - ढलते |
    very nice

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये सब भी तो अपने ही हैं, इनके लिए जिए तो समझो अपने लिए जिए। नर हो ना निराश करो मन को।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बीत जाती है जिंदगी बंदिंशों में ढलते-ढलते-ये बंदिशें ही तो हमें जिंदगी के साक्षात्कार क्षणों से रागात्मक लगाव की सृजन कर मन के संवेदनशील भावों को झकझोर कर चली जाती हैं एवं छोड़ जाती हैं कुछ यादें जो एक धरोहर बन कर मन में स्थायी भाव के रूप में सुरक्षित रह जाती हैं।वहुत ही सुंदर भावाभिव्यक्ति।धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बस यूँ ही चलते - चलते
    बीत जाती है ज़िन्दगी
    बंदिशों में ढलते - ढलते |
    सुन्दर अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  5. यही ज़िन्दगी का सत्य है………………सुन्दर और सटीक चित्रण्।

    उत्तर देंहटाएं
  6. ज़िंदगी कि उठापटक को बाखूबी चित्रित करती अच्छी कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस बंदिश का भी अपना ही मजा है..कभी कभी इसमें भी सुख मिलता है..बस सोच की बात है.
    बहुत बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर भावोद्गार...

    पर अपने लिए कुछ पल चुरा ही लेना चाहिए...

    उत्तर देंहटाएं
  9. जिंदगी का दर्शन , हम चुरा रहे है कुछ पल .

    उत्तर देंहटाएं
  10. ढूंढे से भी नही मिलता
    वो एक पल
    जो हमने अपने लिए जिया हो
    बंदिशों के रहते
    अह!
    क्या आनंद है इन बंदिशों का।

    उत्तर देंहटाएं
  11. पर गायब हो जाती है मुस्कान
    ये सोच कि -
    हम कौन सा पल
    अपने लिए जिए ?
    अब तक तो मात्र
    सबके लिए फ़र्ज़ पूरे किए।

    कितना सच लिखा है संगीता जी ! कभी पीछे मुड कर देखते हैं तो यही अहसास होता है कि शायद ही कोई पल ऐसा जिया हो जो केवल अपने लिये ही जिया हो ! जीवन के सारे सुबहो शाम सिर्फ फ़र्ज़ निभाते ही बीत गये ! वास्तविकता के बहुत करीब हर आम नारी का दर्द बयान करती एक बहुत ही खूबसूरत रचना ! बधाई एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  12. रीत जाती है ज़िन्दगी
    बस यूँ ही चलते - चलते
    बीत जाती है ज़िन्दगी
    बंदिशों में ढलते - ढलते |

    सच्ची बात कहती हुई रचना .
    अक्सर ऐसे ही जीवन बीतता है .

    उत्तर देंहटाएं
  13. हम कौन सा पल
    अपने लिए जिए ?
    gahri soch ke baad hi yah nishkarsh hota hai... anubhawon ke aanch mein tapker satya milta hai

    उत्तर देंहटाएं
  14. संगीता जी ,
    सामाजिक प्राणी है आदमी ,बंदिशें कुछ तो रहेंगी ही ,नहीं तो मन ऐसी अराजक चीज़ है कि सभी कुछ तोड़-भागना चाहता है .
    यह भी हमारी सामर्थ्य पर निर्भर है कि हम कहाँ कितनी छूट ले लें. खीच-तान तो चलती रहेगी-रस्सी कस के खींचे रहिये अपनी तरफ़(बड़ा संतोष मिलता है ) .

    उत्तर देंहटाएं
  15. पर गायब हो जाती है मुस्कान
    ये सोच कि -
    हम कौन सा पल
    अपने लिए जिए ?
    अब तक तो मात्र
    सबके लिए फ़र्ज़ पूरे किए।

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति है...

    उत्तर देंहटाएं
  16. jindagi aur bandishen....hammeshaa ek doosare ka haath pakad kar hi chalti hai!...bahut sundar rachna!

    उत्तर देंहटाएं
  17. sangeeta ji aapne meri rachnaoo ko charcha manch pr kayi baar jgah di hai...lekin mai charchamanch site pr aapko aabhar vyakt nahi kr payi...pta nahi kyo jab bhi mai charchamanch ki site kholne ki koshish krti hu...site khul hi nahi pati..is samasya ka smadhan krne ki koshish kr rhi hu...lekin fir bhi agar charchamanch pr mera aabhar na aaye to site ki samasya hi hogi...
    dhanybad

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें