सोमवार, 23 मई 2011

जा रहे हो कौन पथ पर ???



ज्ञान चक्षु खोल कर
विज्ञान का विस्तार कर
जा रहे हो कौन पथ पर
देखो ज़रा तुम सोच कर।


कौन राह के पथिक हो
कौन सी मंजिल है
सही डगर के बिना
मंजिल भी भटक गई है।

अस्त्र - शस्त्र निर्माण कर
स्वयं का ही संहार कर
क्या चाहते हो मानव ?
इस सृष्टि का विनाश कर ।

विज्ञान इतना बढ़ गया
विनाश की ओर चल दिया
धरा से भी ऊपर उठ
ग्रह की ओर चल दिया ।

हे मनुज ! रोको कदम
स्नेह से भर लो ये मन
लौट आओ उस पथ से जहाँ
हो रहा मनुष्यता का पतन।
 


23 टिप्‍पणियां:

  1. वाह....क्या लिखा है आपने ......मन की बात कहा दी ....धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. अजी 21 मई को तो सभी को एक ही पथ पर जाना था, लेकिन दुर्भाग्‍य से जा नहीं पाए। सोचा था कि सभी एक साथ, वाह क्‍या आनन्‍द आएगा! आपकी कविता अच्‍छी है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छी चेतावनी दी है इस कविता ने !

    उत्तर देंहटाएं
  4. sunder sarthak ..bhavpoorna satya kaha hai ...
    sateek lekhan ke liye badhai ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. अस्त्र - शस्त्र निर्माण कर
    स्वयं का ही संहार कर
    क्या चाहते हो मानव ?
    इस सृष्टि का विनाश कर ।
    sahi aagah kiya hai

    हे मनुज ! रोको कदम
    स्नेह से भर लो ये मन
    लौट आओ उस पथ से जहाँ
    हो रहा मनुष्यता का पतन।
    sahi nirdesh

    उत्तर देंहटाएं
  6. विज्ञानं अब विकास के बजाय विनाश की ओर अग्रसर है

    उत्तर देंहटाएं
  7. ्बेह्द सुन्दर आह्वान किया है…………उम्दा प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  8. manushya ko samaz jaane ki jarurat hai...anyatha patan nishchit hai!...sundar vichaar, badhaai!

    उत्तर देंहटाएं
  9. bahut achchha aur yatharth likha hai. apani pragati jise ham samajh rahe hain usake aage jane par vinash ke dvar hi khul rahe hain. ham khud pragati karte karte apane hi dushman ho rahe hain.

    उत्तर देंहटाएं
  10. चेतावनी भी आव्हान भी.
    बेहद सशक्त कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  11. हे मनुज ! रोको कदम
    स्नेह से भर लो ये मन
    लौट आओ उस पथ से जहाँ
    हो रहा मनुष्यता का पतन।

    लोकोपयोगी कामनाएं.वाह क्या बात है .

    उत्तर देंहटाएं
  12. हे मनुज ! रोको कदम
    स्नेह से भर लो ये मन
    लौट आओ उस पथ से जहाँ
    हो रहा मनुष्यता का पतन।

    बहुत ही सार्थक एवं उद्देश्यपूर्ण संदेश देती प्रेरक रचना ! बहुत बधाई एवं शुभकामनायें स्वीकार करें !

    उत्तर देंहटाएं
  13. मनुष्यता की कीमत जिस दिन समझ आ जायेगी शायद लौट आये वो!! तब टक प्रतीक्षा ही करनी होगी किसी युगपुरुष की!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 24 - 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच --- चर्चामंच

    उत्तर देंहटाएं
  15. हे मनुज ! रोको कदम
    स्नेह से भर लो ये मन
    लौट आओ उस पथ से जहाँ
    हो रहा मनुष्यता का पतन।
    bahut theek kaha....

    उत्तर देंहटाएं
  16. इस विकट घड़ी में मानवता की स्थापना और शांति और सौहार्द्र की रक्षा के लिए गांधी जी के अहिंसा का सिद्धांत बहुत ज़रूरी है। सुख और शांति के लिए प्रेम, भाईचारा और स्नेह आज के समय की मांग है। यह उद्देश्य बताने में कविता पूरी तरह खड़ी उतरती है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. सार्थक रचना....

    बहुत आवश्यक है यह ध्यान में रखना, नहीं तो विज्ञान का सार्थक उपयोग कभी न हो पायेगा...

    उत्तर देंहटाएं
  18. आखिरी पांति बहुत ही सम्बेदन शील ! बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  19. चेतावनी देती अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  20. मित्रों चर्चा मंच के, देखो पन्ने खोल |
    आओ धक्का मार के, महंगा है पेट्रोल ||
    --
    बुधवारीय चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें