सोमवार, 3 सितंबर 2012

लेखनी को चाहिए अब अंगार


 

मच   रहा  है 
चहुँ ओर 
हाहाकार 
लेखनी को चाहिए 
अब  अंगार 

एक धमाके से 
कितनी ही जाने 
हो  रहीं  निसार 
और कान में तेल दिए 
बैठी  है सरकार 
अपने ही कर रहे 
पीठ  पीछे  वार 
लेखनी को चाहिए 
अब  अंगार .

व्यवस्थाएं  सब जैसे 
चरमरा  गईं 
सहिष्णुता  भी सबकी 
है  भरभरा गयी 
रोज़  ही  
होते हैं  लोग 
हादसों  के  शिकार 
लेखनी को चाहिए 
अब  अंगार .

जल रहा   हर क्षेत्र है 
अब  इस देश का 
लहरा  रहा परचम 
है व्याभिचार का 
छाद्मधारी 
वेश धारण कर 
विकास का कर रहे 
बस झूठा  प्रचार 
लेखनी को चाहिए 
बस  अंगार ...... 






20 टिप्‍पणियां:

  1. सरकार और सत्ता पर आसीन नेताओं के कृत्य पर कटाक्ष करती आपकी कविता "लेखनी को चाहिए अब अंगार" बेहद अच्छी लगी। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. खुबसुरत और उम्दा रचना.

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  3. ...अब लेखनी ही एकमात्र हथियार है जिससे दुष्प्रवृत्तियों को मारा जा सकता है !

    उत्तर देंहटाएं

  4. तोप,तलवार और बंम के गोलों से अधिक शक्ति लेखनी में होती है - यह बात बिलकुल सही है !

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रणाम दी :)
    आभार दी ,इस आवाहन के लिए !
    विकास का कर रहे
    बस झूठा प्रचार
    लेखनी को चाहिए
    बस अंगार .... !!
    बस अंगार .... !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. कविता के स्वर उत्प्रेरक हैं।
    कोशिश तो ज़ारी है ... देखें कहां तक सफल होते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आज के परिपक्ष को देखते हुए बहुत सारगर्भित रचना है दी ...!!
    उदास होता है मन सब तरफ का वातावरण देख कर ......

    उत्तर देंहटाएं
  8. सही वक्त पर बहुत सही आह्वान है संगीता जी ! जैसे हालात हैं वाकई आपकी इस पुकार पर सचेत हो कमर कसने का यह समय है ! जगह-जगह हाहाकार मचा हुआ है और हम सबको इस भ्रष्टाचार के दानव का दमन करने के लिये कृत संकल्प होने की सख्त ज़रूरत है ! बहुत ही प्रासंगिक व समयानुकूल रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह वाह ……………आज के संदर्भ मे एक सारगर्भित रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  10. BADHIYA KAVITA... SAMAJ KEE DRISHTI SE BHI AUR BLOG KE VATAVARAN KI DRISHTI SE BHI

    उत्तर देंहटाएं
  11. अपने ही कर रहे
    पीठ पीछे वार ...

    चेहरे बेनकाब
    लिजलिजे से एहसास
    खुद ही होना है अंगार

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह...
    बहुत बढ़िया...
    अंगार भी चाहिए...
    और हथियार भी-धारदार.....

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर ! लेखनी ही वह साधन है जिसको हथियार बना कर भी प्रयोग कर सकते हें लेकिन यहाँ पर तो दिग्गज उसकी धार को भी कुण्ड करने के लिए बहुत से रास्ते खोज लेते हें. गुनाह बनता जा रहा है बेबाक लेखन का तरीका और फिर समर्थ को नहीं दोष गुसाईं.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बिलकुल सही कहा आपने !

    मोहब्बत यह मोहब्बत - ब्लॉग बुलेटिन ब्लॉग जगत मे क्या चल रहा है उस को ब्लॉग जगत की पोस्टों के माध्यम से ही आप तक हम पहुँचते है ... आज आपकी यह पोस्ट भी इस प्रयास मे हमारा साथ दे रही है ... आपको सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  15. जल रहा हर क्षेत्र है
    अब इस देश का
    लहरा रहा परचम
    है व्याभिचार का
    छाद्मधारी (छद्मधारी )
    वेश धारण कर
    विकास का कर रहे
    बस झूठा प्रचार
    लेखनी को चाहिए
    बस अंगार ...... देश से मोह भंग देश द्रोही व्यवस्था रोबोटों से आम आदमी हताश निराश है यही चौतरफा अफरा तफरी इस रचना में प्रतिबिंबित ,अनुगुंजित हुई है .
    ram ram bhai
    सोमवार, 3 सितम्बर 2012
    स्त्री -पुरुष दोनों के लिए ही ज़रूरी है हाइपरटेंशन को जानना
    स्त्री -पुरुष दोनों के लिए ही ज़रूरी है हाइपरटेंशन को जान

    उत्तर देंहटाएं
  16. जल रहा हर क्षेत्र है
    अब इस देश का
    लहरा रहा परचम
    है व्याभिचार(व्यभिचार ) का
    छाद्मधारी (छद्मधारी )
    वेश धारण कर
    विकास का कर रहे
    बस झूठा प्रचार
    लेखनी को चाहिए
    बस अंगार ...... देश से मोह भंग देश द्रोही व्यवस्था रोबोटों से आम आदमी हताश निराश है यही चौतरफा अफरा तफरी इस रचना में प्रतिबिंबित ,अनुगुंजित हुई है .

    उत्तर देंहटाएं
  17. कवि अनुचित के खिलाफ हर युग में आवाज़ बुलंद करते रहे हैं। निश्चय ही,इससे व्यवस्था तो चेतती ही है,स्वयं लेखक-समुदाय को भी अपनी ज़िम्मेदारी का बोध बना रहता है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. aaj aise hi angaar ki jarurat hai. lekhni ki dhaar talwar ki dhaar se adhik teekhi hoti hai yah ham sab ko siddh karke dikhane ki jarurat hai.

    samsaamyik rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  19. मन की बात छीन ली आपने अब साहित्य को जागना ही चाहिए इसी ब्लॉग में पढ़ा था जब राजनीती लडखडाती है तो साहित्य उसे सम्हलता है

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें