सोमवार, 19 अप्रैल 2010

आज का विचार - 27

आज का विचार - न्याय मार्ग

“न्यायात्पथः प्रविचलन्ति पदं न धीराः”

                                            --- --- निति

न्या मार्ग पर चलते हुए धैर्यवान व्यक्ति के क़दम डगमाते नहीं, विचलित नहीं होते!

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें