सोमवार, 12 सितंबर 2011

कैसे मन मुस्काए…



रोटी समझ चाँद को
बच्चा मन ही मन ललचाए
आशा भरकर वो यह देखे
माँ कब रोटी लाए
दशा देखकर उस बच्चे की
कैसे मन मुस्काए |
 
 घर के बाहर
चलना दूभर
साँस सभी की
नीचे ऊपर
काँप रहा
उसका दिल थर-थर
मन बेहद घबराये
ऐसे आतंकी साये में
कैसे मन मुस्काए |



हुआ धमाका
बम का जब - जब
बढ़ी वेदना
मन में तब - तब
लहूलुहान हुए लोगों का
खून छितरता  जाये
इन दृश्यों को देख भला

फिर कैसे मन मुस्काए ?
 
संगीता स्वरुप

24 टिप्‍पणियां:

  1. जब मन स्थिर रहता है तो दुनिया की हर चीज अच्छी लगती है । आज दहशत भरी जिंदगी में जब कभी कोई व्यक्ति घर से बाहर निकलता है इसके मन में आशंका सी बनी रहती है कि घर सही सलामत आ जाए । आतंकवाद के बढते रूप को देख कर किसी भी संवेदनशील व्यक्ति का मन कुंठित सा हो जाना स्वभाविक है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वातावरण प्रधान मार्मिक पोस्ट .

    उत्तर देंहटाएं
  3. kaise man muskaaye ? sahi prashan hai aaj ke pariprekshya me .........in halaton me hansi bhi udhar ki lagti hai.......satik aur sarthak abhivyakti.

    उत्तर देंहटाएं
  4. ऐसे दहशत भरे माहौल मे कोइ कैसे मुस्कुराए !!
    सच मे !

    उत्तर देंहटाएं
  5. वास्तव में दहशत के इस वातावरण ने सभी के चेहरों की मुस्कान छीन ली है ! ऐसे माहौल में क्षुब्ध मन की दुश्चिंताओं को बहुत संजीदगी से आपने उकेरा है ! बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति ! बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  6. आतंकवाद के बढते रूप को देख कर किसी भी संवेदनशील व्यक्ति का मन कुंठित सा हो जाना स्वभाविक है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच में मुस्कान छीन गई है . उदासी ने डेरा जमा लिया .

    उत्तर देंहटाएं
  8. धन्यवाद संगीताजी! आज के माहौल का आपने बहुत ही सही शब्द-चित्रण किया है!...दहशद के साए में कोई कैसे मुस्कुराएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  9. जिन परिस्थितियों का आपने वर्णन किया है उनके कंट्रास्ट इस प्राश्न में ही सिर्फ़ निहित नहीं हैं कि कैसे मन मुस्काए, बल्कि रोटी, चांद, बच्चा, जीवन, सांस, दिल, मन में भी है।
    यह कविता अपने लय से भी आकर्षित करती है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच ही है.माहोल दहशत का है मुस्कान कैसे आएगी.

    उत्तर देंहटाएं
  11. मन की गहराई तक छूती रचना |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुन्दर कविता. निराशा से आशा की ओर ले जा रही है...

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सही कहा....

    प्रभावशाली ढंग से ज्वलंत समस्या को रेखांकित किया आपने...

    उत्तर देंहटाएं
  15. आज -कल स्थिति ऐसी हो गई है की इन्सान खुलकर हँस भी नहीं पता है....

    उत्तर देंहटाएं
  16. हिंदी की जय बोल |

    मन की गांठे खोल ||


    विश्व-हाट में शीघ्र-

    बाजे बम-बम ढोल |


    सरस-सरलतम-मधुरिम

    जैसे चाहे तोल |


    जो भी सीखे हिंदी-

    घूमे वो भू-गोल |


    उन्नति गर चाहे बन्दा-

    ले जाये बिन मोल ||


    हिंदी की जय बोल |

    हिंदी की जय बोल |

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुंदर भावपूर्ण कविता,
    रोटी समझ चाँद को बच्चा मन ही मन ललचाए
    आशा भरकर वो यह देखे माँ कब रोटी लाए
    दशा देखकर उस बच्चे की कैसे मन मुस्काए | ....सच जब देश का हाल ही ऐसा है इन दहश्त गारदों की वजह से तो मुस्कान कहाँ से आएगी
    अति सुंदर भावमई प्रस्तुति के लिए आभार ....

    उत्तर देंहटाएं
  18. har pal yahi aashanka pata nahih kaun sa pal kisaki maut kee amanat ho. ek pal bhi bharosa nahin raha. ye aam aadami hai na isa liye nahin to VIP kab isake shikar hote hain. man muskarana bhool chuka hai bas aman aur chain ke liye sashankit man se dua kiya karta hai ki dua bhari rahegi ya manavata ke dushmanon ke mansoobe aur karname.

    उत्तर देंहटाएं
  19. भारत तो खतरों का खिलाड़ी है। आतंक को तो हमने आत्‍मसात कर लिया है। प्रवास पर रहने के कारण देर से टिप्‍पणी दे पा रही हूँ। क्षमा करें।

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें