शुक्रवार, 30 सितंबर 2011

कहाँ तो तय था चराग़ाँ हर एक घर के लिये… … दुष्यंत कुमार


 
कहाँ तो तय था चराग़ाँ हर एक घर के लिये
कहाँ चराग़ मयस्सर नहीं शहर के लिये

यहाँ दरख़्तों के साये में धूप लगती है
चलो यहाँ से चले और उम्र भर के लिये

न हो क़मीज़ तो घुटनों से पेट ढक लेंगे
ये लोग कितने मुनासिब हैं इस सफ़र के लिये

ख़ुदा नहीं न सही आदमी का ख़्वाब सही
कोई हसीन नज़ारा तो है नज़र के लिये

वो मुतमइन हैं कि पत्थर पिघल नहीं सकता
मैं बेक़रार हूँ आवाज़ में असर के लिये

जियें तो अपने बग़ीचे में गुलमोहर के तले
मरें तो ग़ैर की गलियों में गुलमोहर के लिये

दुष्यंत कुमार

11 टिप्‍पणियां:

  1. वैसे तो दुष्यंत जी की हर ग़ज़ल लाजवाब हैं, पर यह मुझे खास पसंद है।
    आभार आपका इस प्रस्तुति के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आभार इसके लिए। दुष्यंत कुमार की तो बात ही निराली है। ये तो मशहूर रचना है इनकी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना , बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरी प्रिय कविता को इस मंच पर लाने के लिए धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  5. सारगर्भित ग़ज़ल परोसने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. वकाई दुष्यंत जी की हर गजल ला जवाब है इस प्रस्तुति के लिए आपका आभार
    समय मिले तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  7. दुष्यंत जी का तो एक एक शब्द वजनदार होता है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. It's appropriate time to make some plans for the future and it is time to be happy. I have read this post and if I could I want to suggest you some interesting things or suggestions. Perhaps you can write next articles referring to this article. I want to read even more things about it!
    Feel free to surf my weblog this comparison

    उत्तर देंहटाएं
  9. I believe that is among the most vital information for me.
    And i'm satisfied studying your article. But wanna commentary on some basic issues, The website taste is great, the articles is in reality great : D. Good task, cheers

    Here is my weblog - cams kostenlos

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें