मंगलवार, 13 सितंबर 2011

तुम्हे क्या

अज्ञेयअज्ञेय की कविताएं

9. तुम्हे क्या

तुम्हे क्या
अगर मैं दे देता हूँ अपना यह गीत
उस बाघिन को
जो हर रात दबे पाँव आती है
आस-पास फेरा लगाती है
और मुझे सोते सूँघ जाती है,
वह नींद, जिसमे मैं देखता हूँ सपने
जिन में ही उभरते हैं सब अपने
छंद तुक ताल बिंब
मौतों की भट्ठियों में तपाए हुए,
त्रास की नदियों के बहाव में बुझाए हुए ;
मिलते हैं शब्द मुझे आग में नहाए हुए !


और तो और
यही मैं कैसे मानूँ
कि तुम्ही हो वधू, राजकुमारी,
अगर पहले यह न पहचानूँ
कि वही बाघिन है मेरी असली माँ !
कि मैं उसी का बच्चा हूँ !
अनाथ, वनैला .........
देता हूँ, उसे
वासना में डूबे,अपने लहू में सने,
सारे बचकाने मोह और भ्रम अपने .....
गीत सब मन सूबे, सपने
इसी में सच्चा हूँ:
अकेला.......
तुम्हे क्या, तुम्हे क्या, तुम्हे क्या .....

13 टिप्‍पणियां:

  1. अब इस प्रस्तुति पर टिप्पणी का सामर्थ्य कहाँ!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. पढ़ लिया बस, टिप्पणी करने योग्य नहीं हैं .....

    उत्तर देंहटाएं
  3. गहन बात ... इंसान के अवचेतन मन में चलते द्वंद को बखूबी कहा है अज्ञेय जी ने ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. कविता में अनोखा नयापन है...अति सुन्दर प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  6. अज्ञेय जी के आगे तो मैं हमेशा नतमस्तक रहती हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रत्‍येक शब्‍द गहन भाव समेटे हुये .. आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. tipaani ke liye mere paas na to shabd hain aur na hi is layak hu... to bas naman...

    उत्तर देंहटाएं
  9. अज्ञेय जी की रचना के सामने नमन करने के अलावा और कुछ कहने की सामर्थ्य नहीं.

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें