सोमवार, 26 सितंबर 2011

राख का अम्बार और इंतज़ार


न जाने कितनी बार
मेरे हिस्से ज़हर आया है
जब -जब भी ज़िन्दगी ने
मंथन किया
मैंने विष ही पाया है।
इतना गरल पा कर भी
मन मेरा शिव नही बन पाया
क्यों कि ये ज़हर
मेरे कंठ में नही रुक पाया है।
उगल दिया मैंने सब
बिना ज़मीं देखे हुए
बंजर हो गई वो धरती
जहाँ प्रेम की पौध
उगा करती थी
जल गए वो दरख्त
जिनकी टहनी मिला करती थी
सूख गए वो अरमान
जो इन पेडों पर रहा करते थे
मर गए वो एहसास
जो इन पर
झूले झूला करते थे ।
आज बस रह गया है तो
एक राख का अम्बार है
इसे उड़ने के लिए हवा के
हल्के से झोंके का इंतज़ार है.
 
संगीतास्वरूप

29 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर कविता। बधाई।

    शायद आपने ब्‍लॉग के लिए ज़रूरी चीजें अभी तक नहीं देखीं। यहाँ आपके काम की बहुत सारी चीजें हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. गरल पीकर सरल रहना दुष्कर है इसलिए लोग उलीच देते हैं और यह ज़हर समाज के लिए ख़तरा हो जाता है.आख़िर हर कोई शिव थोड़ी हो सकता है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. हाँ ,शिव होना बहुत कठिन है ,गरल को पचाना उससे भी अधिक मुश्किल .

    उत्तर देंहटाएं
  4. न जाने कितनी बार
    मेरे हिस्से ज़हर आया है
    जब -जब भी ज़िन्दगी ने
    मंथन किया, मैंने विष ही पाया है।

    Sangeeta ji bahut sundar rachana.
    Badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  5. गरल पीने की शक्ति और उसे अपने अन्‍दर धारण करने की क्षमता यदि किसी में है तो वह महिला ही है। लेकिन आज लोगों ने इस दुनिया को वास्‍तव में जहर से भर दिया है। बहुत अच्‍छी अभिव्‍यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  6. उफ़ बेहद दर्द ही दर्द भर दिया है हकीकत के साथ्।

    उत्तर देंहटाएं
  7. मैंने विष ही पाया है।
    इतना गरल पा कर भी
    मन मेरा शिव नही बन पाया
    क्यों कि ये ज़हर
    मेरे कंठ में नही रुक पाया है।

    मन की पीड़ा से उपजी बहुत मार्मिक, बहुत सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  8. गरल पान का दायित्व सदैव स्त्री के ही हिस्से में क्यों आता है ? क्या संतुलन बनाये रखने की जिम्मेदारी सिर्फ उसीकी है ? बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति ! बधाई एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  9. जब -जब भी ज़िन्दगी ने
    मंथन किया
    मैंने विष ही पाया है।
    इतना गरल पा कर भी
    मन मेरा शिव नही बन पाया
    क्यों कि ये ज़हर
    मेरे कंठ में नही रुक पाया है।.......शिव बनना कहाँ आसान, पर आपके बेबाक सच ने मेरे रोंगटे खड़े कर दिए

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत मार्मिक और गहन अभिव्यक्ति ....

    उत्तर देंहटाएं
  11. जब -जब भी ज़िन्दगी ने
    मंथन किया
    मैंने विष ही पाया है।
    इतना गरल पा कर भी
    मन मेरा शिव नही बन पाया

    उत्तर देंहटाएं
  12. मन मेरा शिव नही बन पाया
    क्यों कि ये ज़हर
    मेरे कंठ में नही रुक पाया है।
    उगल दिया मैंने सब
    बिना ज़मीं देखे हुए
    बंजर हो गई वो धरती
    जहाँ प्रेम की पौध
    उगा करती थी
    जाने कितनो का सच कह दिया.पता नहीं कैसे भावों को इतना सहज और सटीक लिख लेती हैं आप.

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. आज बस रह गया है तो
    एक राख का अम्बार है
    इसे उड़ने के लिए हवा के
    हल्के से झोंके का इंतज़ार है.

    rachnakar jis bhavbhoomi par rachna ka srijan karta hai jaruri nahi ki pathak uski soch tak pahunch paye...isliye me nahi janti ki ye upar ki panktiya kis bhaavbhoomi ko sambandhit karti hain....han jahan tak meri soch pahunchti hai to in panktiyo ke jawab me main yahi kahungi...ki acchha ho vo hawa ka jhonka is garal yukt raakh ko uda le jaye aur ek nayi pyar ki, sahishnuta ki mitti laaye jisme shiv jaisa saty aur sundarta to ho lekin zeher na ho. jis se paid ki hari bhari tehniyon par armaan lehlaha uthen.

    उत्तर देंहटाएं
  15. न जाने क्यों आपकी बात से सहमत होने का मन करता है। जहर निगलें क्यों, बहुत सही किया है कि उगल दिया और यह विष उन्हें नुकसान पहुंचा रहा है जिन्होंने साजिश की थी जहर पिलाने की।

    उत्तर देंहटाएं
  16. सभी पाठकों का आभार ...

    अनामिका जी ,

    शुक्रिया आपकी सुन्दर सोच के लिए ...

    अंतिम पंक्तियाँ अंतिम विदाई के लिए हैं ... प्यार नया पुराना नहीं होता ...नयी शुरुआत भी नहीं होता ..आपकी खूबसूरत कामना के लिए शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  17. नीलकंठ न बन पाना और विष-वमन... अनोखे बिम्बों के सहारे अनोखी रचना का सृजन!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. बिल्कुल ही नये प्रतिम्बों में पीड़ा व्यक्त की गई है.अति-सुंदर.
    त्रिशूल,त्रिनेत्र और ताण्डव भी अनिवार्य है विष को कंठ में धारण करने के लिये.

    उत्तर देंहटाएं
  19. आज बस रह गया है तो
    एक राख का अम्बार है
    इसे उड़ने के लिए हवा के
    हल्के से झोंके का इंतज़ार है.
    bahut umda...aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  20. उगल देना ही ठीक था , राख बनकर उड़ जायेगा !
    गहन भाव !

    उत्तर देंहटाएं
  21. sangeeta ji mere comments par apka jawab maine aaj padha...aur aapki rachna ki bhaavbhoomi jaani.

    maine pahle hi likha hai ki jaruri nahi ki pathak rachnakar ki bhavbhoomi tak pahunch paye.

    so...ant me in antim panktiyon par to meri yahi kaamna hai ki aaj is raakh ke ambaar par koi prem varsha kare jis se isme chhupa garal amrit me parivartit ho jaye aur aaye to sahi hava ka jhonka lekin aisa jo ise chhoo kar nikle to ek thandak ka ehsaas lekar nikle.

    prem varsha me bahut takat hoti hai...usi ke liye dua karungi.

    उत्तर देंहटाएं
  22. इतना गरल पा कर भी
    मन मेरा शिव नही बन पाया
    क्यों कि ये ज़हर
    मेरे कंठ में नही रुक पाया है।
    जीवन में अनायास ही हम उस विष को उड़ेलने लगते हैं ..जो हमने अपनों से या अनुभवों से पाया है. यह भूल जाते हैं की इसे उगलने से पीड़ा और बढ़ेगी......और वह बढती जाती है

    अति सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  23. Everything is very open with a very clear description of the challenges.
    It was really informative. Your site is useful.
    Thank you for sharing!
    My web page - bing it

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें