सोमवार, 21 नवंबर 2011

कुरुक्षेत्र …. प्रथम सर्ग ( भाग – 2 ) रामधारी सिंह ‘दिनकर ‘



और जब,
तीव्र हर्ष-निनाद उठ कर पाण्डवों के शिविर से
घूमता फिरता गहन कुरुक्षेत्र की मृतभूमि में,
लड़खड़ाता-सा हवा पर एक स्वर निस्सार-सा,
लौट आता था भटक कर पाण्डवों के पास ही,
जीवितों के कान पर मरता हुआ,
और उन पर व्यंग्य-सा करता हुआ-
'देख लो, बाहर महा सुनसान है
सालता जिनका हृदय मैं, लोग वे सब जा चुके।'

हर्ष के स्वर में छिपा जो व्यंग्य है,
कौन सुन समझे उसे? सब लोग तो
अर्द्ध-मृत-से हो रहे आनन्द से;
जय-सुरा की सनसनी से चेतना निस्पन्द है।
किन्तु, इस उल्लास-जड़ समुदाय में
एक ऐसा भी पुरुष है, जो विकल
बोलता कुछ भी नहीं, पर, रो रहा
मग्न चिन्तालीन अपने-आप में।

"सत्य ही तो, जा चुके सब लोग हैं
दूर ईष्या-द्वेष, हाहाकार से!
मर गये जो, वे नहीं सुनते इसे;
हर्ष का  स्वर जीवितों का व्यंग्य है।"
स्वप्न-सा देखा, सुयोधन कह रहा-
"ओ युधिष्ठिर, सिन्धु के हम पार हैं;
तुम चिढाने के लिए जो कुछ कहो,
किन्तु, कोई बात हम सुनते नहीं।

"हम वहाँ पर हैं, महाभारत जहाँ
दीखता है स्वप्न अन्तःशून्य-सा,
जो घटित-सा तो कभी लगता, मगर,
अर्थ जिसका अब न कोई याद है।
"आ गये हम पार, तुम उस पार हो;
यह पराजय या कि जय किसकी हुई?
व्यंग्य, पश्चाताप, अन्तर्दाह का
अब विजय-उपहार भोगो चैन से।"

हर्ष का स्वर घूमता निस्सार-सा
लड़खड़ाता मर रहा कुरुक्षेत्र में,
औ' युधिष्ठिर सुन रहे अव्यक्त-सा
एक रव मन का कि व्यापक शून्य का।
'रक्त से सिंच कर समर की मेदिनी
हो गयी है लाल नीचे कोस-भर,
और ऊपर रक्त की खर धार में
तैरते हैं अंग रथ, गज, बाजि के।

'किन्तु, इस विध्वंस के उपरान्त भी
शेष क्या है? व्यंग ही तो भाग्य का?
चाहता था प्राप्त मैं करना जिसे
तत्व वह करगत हुआ या उड़ गया?
'सत्य ही तो, मुष्टिगत करना जिसे
चाहता था, शत्रुओं के साथ ही
उड़ गये वे तत्त्व, मेरे हाथ में
व्यंग्य, पश्चाताप केवल छोड़कर।

'यह महाभारत वृथा, निष्फल हुआ,
उफ! ज्वलित कितना गरलमय व्यंग है?
पाँच ही असहिष्णु नर के द्वेष से
हो गया संहार पूरे देश का!
'द्रौपदी हो दिव्य-वस्त्रालंकृता,
और हम भोगें अहम्मय राज्य यह,
पुत्र-पति-हीना इसी से तो हुईं
कोटि माताएँ, करोड़ों नारियाँ!

'रक्त से छाने हुए इस राज्य को
वज्र हो कैसे सकूँगा भोग मैं?
आदमी के खून में यह है सना,
और इसमें है लहू अभिमन्यु का.
वज्र-सा कुछ टूटकर स्मृति से गिरा,
दब गये कौन्तेय दुर्वह भार में.
दब गयी वह बुद्धि जो अब तक रही
खोजती कुछ तत्त्व रण के भस्म में।

भर गया ऐसा हृदय दुख-दर्द-से,
फेन या बुदबुद नहीं उसमें उठा!
खींचकर उच्छ्वास बोले सिर्फ वे
'पार्थ, मैं जाता पितामह पास हूँ।'
और हर्ष-निनाद अन्तःशून्य-सा
लड़खड़ता मर रहा था वायु में।


क्रमश:

अगला भाग  /  पिछला भाग

16 टिप्‍पणियां:

  1. जानकी वल्लभ शास्त्री जी की एवं डॉ राम धारी सिंह 'दिनकर' जी की कविताओं के माध्यम से गहन संदेश दिया गया है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. 'यह महाभारत वृथा, निष्फल हुआ,
    उफ! ज्वलित कितना गरलमय व्यंग है?
    व्यंग्य है, पर सच भी यही है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. आभार इस प्रस्तुति के लिए कभी धाराप्रवाह पढ़ा था कुरुक्षेत्र को रात रात दिन रात बस यूं ही काव्य रस के आस्वाद के लिए प्रवाह के लिए .

    उत्तर देंहटाएं
  5. पढकर रोमांचित हो जाती हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप यह बहुत अच्छा काम कर रहे हैं. कम से कम मेरे जैसों के लिए जिन्हें इस तरह की रचनाएँ पढ़ने के लिए यहाँ नहीं मिलतीं.
    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस रचना को प्रस्तुत करने के लिए आभार आपका ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. रचना को प्रस्तुत करने के लिए आभार आपका ..

    उत्तर देंहटाएं
  9. यादें ताजा हो गईं.
    बहुत सुंदर इस रचना को हम तक पहुंचाने के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  10. sach me ise padhkar arjun aur ashok ki maneh sthiti ki bhaan hota hai. aur yuddh ke baad ye glani ka ehsaas jaagna kitna dardnaak hai .

    dhanywad is rachna ko ham tak pahunchane k liye.

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें