रविवार, 13 नवंबर 2011

प्रेरक प्रसंग-11 : नियम भंग कैसे करूं?

clip_image001clip_image001

clip_image001[5]

प्रस्तुत-कर्ता : मनोज कुमार

1929 की बात है। एक दिन गांधी जी को किसी विशेष कारण से शाम की प्रार्थना में पहुंचने में एक मिनट की देरी हो गई। आश्रम के प्रवेश द्वार पर जब वे पहुंचे तो वहां मौज़ूद व्यक्ति ने छोटा दरवाज़ा खोल दिया। उसने बापू से कहा कि आप प्रवेश कर जाएं। पर गांधी जी भीतर नहीं गए, वहीं खड़े रहे।

जब प्रार्थना समाप्त हुई तो वे प्रार्थना-स्थल पर पहुंचे। उन्होंने अपने भाषण में भाग न ले सकने का कारण बताते हुए कहा,

“मैं प्रर्थना-सभा में कैसे आ सकता था? प्रार्थना तो शुरु हो चुकी थी। मैंने ही तो यह नियम बनाया है कि प्रार्थना शुरु होने के बाद, प्रार्थना-सभा में कोई प्रवेश न करे। इसलिए तीनों प्रवेश द्वार पर जालीदार छोटे-छोटे दरवाज़े लगवा दिए गए हैं, जिन्हें बंद करने से दूर से ही पता चल जाए किए प्रार्थना शुरु हो गई है।”

बापू कहा करते थे, “प्रार्थना तो मेरी खुराक है। मैं पानी और खाने के बिना कई दिनों तक रह सकता हूं, लेकिन प्रार्थना के बिना एक क्षण भी नहीं रह सकता।”

DSCN1592उनका कहना था, कि जो मनुष्य आखिरी समय में जिसका चिन्तन करेगा, उसी की गति पाएगा। मतलब अन्त में राम का चिन्तन किया और राम-नाम लिया, तो वह राम को पाएगा। इस पर किसी ने उनसे पूछा कि जब ऐसा है तो फिर दिन में दो बार आप प्रार्थना क्यों करते है, बल्कि आखिर की घड़ी में राम-राम शब्द बोलेंगे, तो भी तो सद्गति हो ही जाएगी न।

गांधी जी ने उसे समझाया, “बात तो तुम ठीक कह रहे हो। लेकिन यह इतना आसान भी नहीं है। यह समझ लेना चाहिए कि जिसने जीवन-भर राम-नाम का जप नहीं किया, उसके मुंह से आखिर में राम-नाम निकलेगा ही नहीं। आन्तिम समय में मुंह से राम-नाम निकले इसके लिए तो जीवन राममय बनाना होगा, तभी यह सम्भव है।”

बापू के मुंह से आन्तिम शब्द निकले थे --- हे राम! हे राम!

कितना राममय था बापू का सारा जीवन!

***

 

7 टिप्‍पणियां:

  1. राम मय बनना सरल नहीं है ..नियम जो बनाये जाएँ उनका सख्ती से पालन करने की प्रेरणा देती अच्छी पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  2. गांधी जी ने उसे समझाया, “बात तो तुम ठीक कह रहे हो। लेकिन यह इतना आसान भी नहीं है। यह समझ लेना चाहिए कि जिसने जीवन-भर राम-नाम का जप नहीं किया, उसके मुंह से आखिर में राम-नाम निकलेगा ही नहीं।

    bahut acchha tark diya. prerak post.

    उत्तर देंहटाएं
  3. रोचक प्रसंग. सही कहा है जीवन राम मयी बने तभी अंत समय में राम को याद किया जा सकता है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. जीवन राममय होगा तभी राम नाम का उच्चारण भी सहज होगा!
    प्रेरक प्रसंग!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें