रविवार, 21 अगस्त 2011

नया अवतार …


कृष्ण ! 
कहा था तुमने
जब जब होगी
धर्म की  हानि
तुम आओगे
धरती पर ,
आज मानव
कर रहा है
तुम्हारा इंतज़ार
हे माखनचोर
कब लोगे
तुम अवतार ?
 

  तुम्हारा
कोई रूप नहीं
जाति नहीं
देह नहीं
सबके मन में
तुम्हारा वास
कब लोगे
तुम अवतार ?
 

धरा पाप से
मलिन हुई
पीड़ा जनता की
असीम हुई
अन्याय का
नहीं  कोई पारावार
कब लोगे
तुम अवतार ?

लीला तुम्हारी
अपरम्पार
भेजा एक कृष्ण
हमारे द्वार
करने दूर
अत्याचार
खत्म करने
भ्रष्टाचार
सब भक्तिभाव से
स्वीकार रहे
मन में आशा
जगा रहे
उसमें तुमको
देख रहे
जन्मदिन तुम्हारा
मना रहे
उमड़ पड़ा
जनसमूह अपार
ज्यों ही
कृष्ण ने
भरी हुंकार
क्या यही है
तुम्हारा नया  अवतार ?



संगीता स्वरुप
clip_image001

22 टिप्‍पणियां:

  1. सम्भवामि युगे युगे . जन्माष्टमी की शुभकामनाये .

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब ! आपकी प्रत्याशा अन्ना में सफलीभूत होती दिखाई दे रही है ! कदाचित वही कृष्ण का कलयुगी अवतार हैं जो इस पाप के बोझ से बोझिल भारत भूमि की रक्षा के लिये अवतरित हुए हैं ! सुन्दर भाव और बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति ! जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच ही तो है"जाकी रही भावना जैसी प्रभु मूरत देखीं तिन तैसी" आज सबको ही अन्ना भगवान के दूत ही नज़र आ रहे हैं अब बस उन्हें सफलता मिल जाए ऐसी कामना है उनकी सफलता में ही हमारी सफलता है
    बेहद भावमई प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  4. आशा करें कि यह अवतार भ्रष्टाचार के कालिया और कंस का वध करने में सफल हो!! आमीन!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर...जन्माष्टमी के पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम सब ने जो आशा लगाई है ,फलीभूत हो यही मनाती हूँ .
    वैसे एक झटके में पूरा काम नहीं हो पाता .रहे-बचे के लिये झटके लगाने और खाने को भी तैयार रहना होगा !

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह क्या खूब लिखा है आपने और बिल्कुल सटीक कहा है कृष्ण स्वंय नही आते किसी ना किसी रूप मे प्रकट होते हैं आज के दिन की एक बहुत ही सुन्दर और सटीक रचना……………कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  8. krishna se tulna karke sarthak kiya hai ye tyohar. vaise ye sangharsh ka samay krishna ke roop ko nihar raha hai kyonki ab ek kans nahin lakhon kans paida ho chuke hain tabhi jan jan anna ban kar hunkar bhar raha hai.
    bahut sundar.

    उत्तर देंहटाएं
  9. rah rah kar aaj shayed har bharatwasi ke man me ye vichar uth raha hoga ki ye 'anna' krishnavtar to nahi prakat ho rahe...jo itna jan samooh unke sath hai.

    badhiya samsamyik rachna.

    sab ko janmaashtmi ki shubhkamnayen.

    उत्तर देंहटाएं
  10. आज के संदर्भ में कंस से उद्धार पाने के लिए, और एक और महाभारत के लिए श्री कृष्ण ऐसे चरित्र को पढ़ने और गुनने की बहुत आवश्यकता है।
    इस लिए आपकी इस पोस्ट का महत्व बहुत बढ़ जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. kranti ke liye utha hua har kadam usika hai ........bahut sunder badhai....

    उत्तर देंहटाएं
  12. yuva peedee me jo jagruti aaee hai ab mujhe koi sanshay ya chinta nahee rahee
    oont kisee karvat baithe
    bhavishy ujwal nazar aa raha hai........
    samyik aur sarthak lekhan .
    aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  13. यथार्थ के धरातल पर रची गयी एक सार्थक प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  14. aa aur aap ke sabhi dosto ko janam astmi ki hardik shubh kamnate

    उत्तर देंहटाएं
  15. लीक से हटकर देश और समाज के लिए जान तक अर्पण कर देने की सोच को कृष्ण से जोड़ना सार्थक ही है ...
    बहुत बधाई और शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  16. अन्ना हज़ारे का असली नाम किसन बाबू राव हज़ारे ही है। आपने जिस तरह कृष्ण अवतार कहा है पढ़ कर अच्छा लगा। इश्वर करे आपकी आशाये,उम्मीदे अवश्य पूरी हों। अन्ना जी का नाम इतिहास में अवश्य दोहराया जायेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  17. आज के परिप्रेक्ष्य में एक सार्थक रचना...|

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें