रविवार, 14 अगस्त 2011

हिमाद्रि तुंग श्रृंग से

 

जयशंकर प्रसाद की कविता - 1

हिमाद्रि तुंग श्रृंग से

 

हिमाद्रि तुंग श्रृंग से प्रबुद्ध शुद्ध भारती
स्वयंप्रभा समुज्वला स्वतंत्रता पुकारती
अमर्त्य वीर पुत्र हो दृढ़-प्रतिज्ञ सोच लो
प्रशस्त पुण्य पंथ हैं - बढ़े चलो बढ़े चलो ॥

 

असंख्य कीर्ति-रश्मियाँ विकीर्ण दिव्य दाह-सी
सपूत मातृभूमि के रुको न शूर साहसी
अराति सैन्य सिंधु में सुबाड़वाग्नि से जलो
प्रवीर हो जयी बनो - बढ़े चलो बढ़े चलो

8 टिप्‍पणियां:

  1. स्वत्नत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामना...

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्वतंत्रता दिवस की शुरुआत सुन्दर रचना से ... एक सार्थक आह्वान करती हुई प्रस्तुति ...

    स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें और बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह तो हमने सालों गाया है। विद्यालय में प्रार्थना नहीं, यही अभियान गीत हर दिन होना ही था। प्रसाद जैसे आदमी लिखें, तो तत्सम शब्द तो होंगे ही।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर प्रस्तुति.....

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. जयशंकर प्रसाद जी की अमर रचना पढ़वाने के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें