सोमवार, 9 अगस्त 2010

काव्य अर्थ का रमणीय शाब्दिक प्रतिपादन है। काव्य लक्षण-20 (पाश्‍चात्य काव्यशास्त्र-8)

काव्य अर्थ का रमणीय शाब्दिक प्रतिपादन है।


काव्य लक्षण-20 (पाश्‍चात्य काव्यशास्त्र-8)

पाश्चात्य काव्यशास्त्र की चर्चा के क्रम में हमने देखा कि “कविता क्या है?” इस पर वहां निरंतर वाद-विवाद होता रहा। शुरु में दो गुट थे, मनोविश्लेषणवादी और मार्क्सवादी। मनोविश्लेषणवादी मानते थे कि “कला कला के लिए” है जबकि मार्क्सवादी का कहना था कि “कला जीवन के लिए” है। ये दोनों दो ग्रुपों-गुटों में बंटे रहे।

कालांतर में एक और गुट आया। वह था न्यू क्रिटिसिज़्म अर्थात्‌ नयी समीक्षा ग्रुप। इस ग्रुप के विद्वानों का मानना था कि “कविता एक शाब्दिक निर्मित है”। अर्थात्‌ कविता शब्द है और अंत में भी यही बात बचती है कि कविता शब्द है।

जब हम भारतीय काव्यशास्त्र में काव्य लक्षण पर विचार कर रहे थे तो हमने पाया था कि आचार्यों ने काव्य को “शब्दार्थ रूप” माना था।

इस चर्चा के आधार पर हम पाते हैं कि काव्य लक्षण का पूरा रूप है “काव्य अर्थ का रमणीय शाब्दिक प्रतिपादन है।”

पश्चिम के विद्वानों ने काव्य लक्षण में, हालाकि शब्द और अर्थ की महिमा के महत्व को पहचाना तो ज़रूर, पर उन्होंने “शब्दार्थ” का बहुत गहराई से विवेचन नहीं किया है।

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत दिन बाद छुट्टियाँ मना कर लौटी हूँ। पिछली पोस्ट पढूँगी । शायद बहुत सी अच्छी पोस्ट्स पढने से रह गयी हैं । धन्यवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी शुभकामनाएं मेरे लिए अमूल्य निधि है!....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. aapki posten sahitya ke kashka si lag rahi hain.. bahut sunder.. eak do udaharan bhi dete to achha lagta aur kasha complete ho jati

    उत्तर देंहटाएं
  4. जानकारी देता सुन्दर लेख!

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें