शुक्रवार, 27 अगस्त 2010

काव्य-सृजन का उद्देश्य

काव्य-सृजन का उद्देश्य

image

मैथिलीशरण गुप्त ने कहा है,


केवल मनोरंजन न कवि का कर्म होना चाहिए।
उसमें उचित उपदेश का भी मर्म होना चाहिए।

कई बार मेरे मन में यह प्रश्‍न आता है, आपके भी आता होगा, आखिर हम कविता लिखते क्यों हैं? कविता ही क्यों? काव्य प्रयोजन की क्या आवश्यकता है? इसकी सार्थकता क्या है? साहित्य का मूल प्रयोजन क्या है? इसका उद्देश्य क्या है?

कहीं न कहीं इसका उद्देश्य मानव संवेदना का विस्तार है। ताकि एक अच्छे संस्कार का विस्तार हो सके, उसका परिष्कार हो सके। इस तरह से हम कह सकते हैं कि सृजन का उद्देश्य एक सांस्कृतिक प्रक्रिया है। एक ऐसी प्रक्रिया जो हमारी भावनात्मक संवेदना को परिष्कार कर, निखार लाए। इस तरह से सामाजिकता में भी निखार आती है।

साहित्य हमें देश-काल की समस्याओं के प्रति जागरूक बनाता है। समस्या के विभिन्न पहलुओं से, उसकी चिंताओं हमें अवगत कराता है ताकि हम आने वाली हर चुनौतिओं का डट कर मुक़ाबला कर सकें। हमारे चारो ओर जो द्वन्द्व हैं, तनाव हैं, उनका लेखा-जोखा प्रस्तुत कर हमें संघर्षों का सामना करने हेतु सक्षम बनाता है। सृजन का उद्देश्य हमारी चेतना को विकसित करना है। हमारी चेतना एक सीमा में बंधी होती है। सृजन का उद्देश्य हमारी चेतना के सीमांतों का विस्तार करना होना चाहिए। हमारी इंसानियत, मानवता या मानवीयता में वृद्धि करे तभी सृजन का उद्देश्य पूरा समझा जाना चाहिए।

सृजन कर्म आनंद का सृजन करे, ऐसा आनंद जो लोकमंगलकारी हो। आनंद और लोकमंगल के अंदर ही बाक़ी सभी प्रयोजन शामिल हैं।

 

3 टिप्‍पणियां:

  1. उम्दा संदेश एवं सार्थक आलेख.

    उत्तर देंहटाएं
  2. संदेश बहुत ही विचारणीय है पर कविता तो अपने आप बह कर निकलती है उस वक्त इतना सोच विचार !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सृजन का उद्देश्य हमारी चेतना को विकसित करना है। हमारी चेतना एक सीमा में बंधी होती है। सृजन का उद्देश्य हमारी चेतना के सीमांतों का विस्तार करना होना चाहिए। हमारी इंसानियत, मानवता या मानवीयता में वृद्धि करे तभी सृजन का उद्देश्य पूरा समझा जाना चाहिए !

    बहुत सही कहा आपने सोचने और अमल करने को प्रोत्साहित करती आपकी ये प्रस्तुति अपना काम कर रही है.

    आभार.

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें