गुरुवार, 14 जुलाई 2011

चलते समय

सुभद्रा कुमारी चौहान


चलते समय

तुम  मुझे  पूछते  हो ‘जाऊँ’?
मैं  क्या जवाब दूं तुम्हीं कहो।
‘जा ...’ कहते रुकती है जबान
किस  मुँह से तुमसे कहूँ रहो!

सेवा  करना  था  जहाँ  मुझे
कुछ भक्ति-भाव दरसाना था।
उन  कृपा-कटाक्षों  का बदला
बलि होकर जहाँ चुकाना था।

मैं  सदा  रुठती  ही  आयी,
प्रिय! तुम्हें न मैंने पहचाना।
वह  मान बाण-सा चुभता है,
अब देख तुम्हारा यह जाना॥

9 टिप्‍पणियां:

  1. एक अंतर मन की आवाज़.
    आभार इस खूबसूरत कविता को पढवाने का.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत भावमयी और सुन्दर रचना पढवाने का शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  3. baad me aise maan baan chubha hi karte hain . ek sachayi ujagar karti rachna padhane ke liye aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
  4. कल 17/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आभार इस खूबसूरत कविता को पढवाने का .....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ...।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अति उत्तम, धन्यवाद
    अतीत के रत्नों को वर्तमान में लाने का प्रयास सराहनीय है।

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें