बुधवार, 27 जुलाई 2011

मोह


सुमित्रानन्दन पन्त
मोह

छोड़ द्रुमों की मृदु छाया,
तोड़ प्रकृति से भी माया,
बाले ! तेरे बाल जाल में कैसे उलझा दूँ लोचन ?
                      भूल अभी से इस जग को !
तज कर तरल तरंगों को,
इन्द्रधनुष  के  रंगों  को,
                तेरे भ्रूभंगों से कैसे बिंधवा दूँ निज मृग-सा मन ?
                       भूल अभी से इस जग को !
कोयल का वह कोमल बोल,
मधुकर की वीणा अनमोल,
कह, तब तेरे ही प्रिय स्वर से कैसे भर लूँ सजनि ! श्रवण ?
                          भूल अभी से इस जग को !
ऊषा सस्मित किसलय दल,
सुधारश्मि  से  उतरा  जल,
      ना, अधरामृत ही के मद में कैसे बहला दूँ जीवन ?
                         भूल अभी से इस जग को !
***
{‘पल्लव’ से ... }

8 टिप्‍पणियां:

  1. कैसे बहला दूँ जीवन ?

    पन्त के नैसर्गिक -प्रकृति प्रेम के आगे वर्ड्सवर्थ की लूसी की क्या औकात ?

    उत्तर देंहटाएं
  2. पंत जी की अनुपम कृति हमसे साझा करने के लिए आभार मनीज़ जी

    उत्तर देंहटाएं
  3. पन्त जी की सुन्दर रचना पढवाने का शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रकृति के कवि के चरणों में प्रणाम!!

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें