सोमवार, 25 जुलाई 2011

भगवान के डाकिये … रामधारी सिंह “दिनकर"


पक्षी और बादल,
ये भगवान के डाकिए हैं
जो एक महादेश से
दूसरें महादेश को जाते हैं।
हम तो समझ नहीं पाते हैं
मगर उनकी लाई चिट्ठियाँ
पेड़, पौधे, पानी और पहाड़
बाँचते हैं।
हम तो केवल यह आँकते हैं
कि एक देश की धरती
दूसरे देश को सुगंध भेजती है।
और वह सौरभ हवा में तैरते हुए
पक्षियों की पाँखों पर तिरता है।
और एक देश का भाप
दूसरे देश में पानी
बनकर गिरता है।
 

15 टिप्‍पणियां:

  1. दिनकर की छदमुक्त कविता पहली बार देख रहा हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिनकर जी की यह कविता नहीं पढ़ी थी पहले।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दिनकर जी की सुंदर रचना प्रस्तुत करने के लिए आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेजोड कविता है दिनकर जी की…………आभार्।

    उत्तर देंहटाएं
  5. dinkar ki is kavita ko mujh tak pahuchaney ke liye dhanyavaad..... mera karyasthal meghalaya hai, jahan baadal jhoomtey naachtey hain,,,, maine kuch varsh pehley ek kavita likhi thi English meyn, krapya is link par dekheyn..... bhav kafi kuch miltey hain......

    http://vkshrotryiapoems.blogspot.com/2010/04/abode-of-clouds.html

    उत्तर देंहटाएं
  6. ये सुन्दर कविता यू् पी बोर्ड के पाठ्यक्रम में है। इस् प्रस्तुति ने फिर एक बार दिनकर को पढ़ने का अवसर दिया।

    उत्तर देंहटाएं
  7. श्रेष्ठ कवि को हमारा शत-शत नमन। बस थोड़ा सा आशीर्वाद आज के उभरते कवियों को भी मिल जाये तो क्या कहने। आभार आपका कि आज सुबह सुबह दिनकर जी की कविता पढ़ने को मिली।

    उत्तर देंहटाएं
  8. दिनकर जी की इतनी खूबसूरत कविता पढवाने के लिए आभार...
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  9. दिनकर जी की इस रचना के लिये आपका बहुत-बहुत आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. मुझे जहां तक याद है इस कविता को हाईस्कूल -इंटर मे पढ़ा है।
    एक बार फिर इसे पढ़ कर बहुत अच्छा लगा।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  11. दिनकरजी की रचना पढ़वाने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें