मंगलवार, 26 जुलाई 2011

बहुभाषिकता – आज की ज़रूरत

जब आप कहते हैं कि चार कोस पर पानी बदले और आठ कोस पर बानी तो इसका मतलब है कि आठ कोस की दूरी पर रहने वाले व्यक्ति के साथ बात करते हुए लोग उसकी पूरी बात नहीं समझ पाएंगे। तो लोग आपस में कैसे संवाद कर पाएंगे? परंतु आठ कोस के निकट वाले क्षेत्रों में रहने वाले लोग दोनों बोलिओं में संवाद करने की क्षमता रखते हैं। इसी प्रकार दो भिन्न भाषाओं के क्षेत्रों में निवास करने वाली जनता भी सीमा क्षेत्रों में निवास करने वाले लोगों के सहारे पर प्रदेश के लोगों के साथ संवाद कर सकते हैं। यदि इस सिद्धांत को और विस्तृत किया जाए तो दो देशों की जनता भी सीमा क्षेत्रों में निवास करने वाले लोगों के सहारे उस देश के लोगों के साथ संवाद कर सकते हैं। इस प्रकार द्विभाषिकता की स्थिति का निर्माण हुआ। अतः सीमा क्षेत्र में, चाहे प्रदेश का हो या देश का, निवास करने वाले लोग स्वभावतः द्विभाषी होते हैं, जैसे, नेपाल की सीमा के साथ रहने वाले अपनी मातृभाषा के साथ नेपाली भाषा, चीन और रूस की सीमा के साथ रहने वाले लोग चीनी और रूसी दोनों भाषाओं में संवाद करने की क्षमता रखते हैं।
यह स्थिति तो सामान्य परिस्थितियों में और स्वाभाविक रूप से बरकरार रहती आई है। यह द्विभाषिकता की स्थिति आज देश प्रदेश के सीमा क्षेत्र तक ही महदूद नहीं रह गई है। अब सीमा क्षेत्र से परे रहने वाले लोग भी अपने आप देश प्रदेश की भाषा सीखने लगे हैं और इसे अतिरिक्त योग्यता माने जाने लगी है। आज हिंदुस्तान का हर सुशिक्षित व्यक्ति द्विभाषी है, अपनी मातृभाषा के अलावा हिंदी और अंग्रेज़ी सीखता है। कई लोग बहुभाषी हो रहे हैं। इसी प्रकार विश्व के अन्य देशों में रहने वाले भी अपने देश की राजभाषा के अलावा फ़्रेंच, स्पैनिश, जर्मन, लैटिन और चीनी, कोरियाई आदि भाषाएं सीख रहे हैं। चीन और जापान के लोग अंग्रेज़ी और अन्य यूरोपीय भाषाएं एवं हिंदी सीख रहे हैं। ब्रिटेन के लोग अपने बच्चों की शिक्षा के लिए बहुभाषी शिक्षकों की तलाश में विज्ञापन दे रहे हैं। अतः आज द्विभाषिकता या बहुभाषिकता एक ज़रूरत बन गई है। आज यदि कोई व्यक्ति कोई विदेशी भाषा नहीं जानता है तो उसे शिक्षित नहीं माना जाता है। आज द्विभाषिकता या बहुभाषिकता शौक नहीं ज़रूरत बन गई है।
*******

3 टिप्‍पणियां:

  1. भारत में आठवी पास आदमी भी अगर दक्षिणी या बंगाली नहीं है तब द्विभाषी या बहुभाषी होता ही है। बिहार के 90प्रतिशत लोग मगही, मैथिली, भोजपुरी, अंगिका के साथ हिन्दी समझते हैं और बोल सकते हैं। यानि 90 प्रतिशत द्विभाषी । और कुछ मूर्ख किस्म के लोग अंग्रेजी सीखकर बुद्धिमान समझते कि वे शिक्षित हैं। अभी विस्तार में नहीं जाऊंगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैं आपकी बातों से पूर्ण रूप से सहमत हूँ कि आज बहुभाषिकता परिवर्तित समाज की जरूरत बन गयी है। आज का पुरूष आत्म-केंद्रित बन कर नहीं रह गया है। उसके सोचने समझने का आयाम विस्तृत हो गया है। परिणामस्वरूप,उसे बाध्य होकर बहुभाषी बनना पड़ता है। पोस्ट अच्छा लगा।
    धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपका विश्लेषण सही लगा। आज जब बहुराष्ट्रीय कंपनी का दौर और वैश्वीकरण ज़ोर है, बहुभाषी होना आवश्यकता बन गई है।

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें