रविवार, 1 अप्रैल 2012

प्रेरक प्रसंग-30 : पुन्नीलाल नाई और गांधी जी

प्रेरक प्रसंग-30

 पुन्नीलाल नाई और गांधी जी

प्रस्तुत कर्ता : मनोज कुमार

आज के प्रेरक प्रसंग में एक दुर्लभ तस्वीर और रोचक प्रसंग पेश कर रहा हूं। यह वाकया गांधी जी का लोगों को प्रोत्साहित करने का एक अद्भुत उदाहरण है। बात 1939 की है। उस समय गांधी जी देश के ही नहीं सारे विश्व के शिखर के नेता थे। ऐसे में भी वे साधारण से साधारण लोगों को भी प्रोत्साहित करने का कोई मौक़ा वे नहीं चूकते थे। ऐसा भी नहीं कि वे यह सब दिखावे के लिए करते थे। यह सब उनकी जीवन शैली के अंग थे। तभी तो वे कहते थे कि “मेरा जीवन ही मेरा संदेश है”!

IMG_3642

उन दिनों गांधी जी इलाहाबाद में थे। आनंद भवन में ठहरे थे। अवसर था, कमला नेहरू स्मारक औषधालय का शिलान्यास का। बात 23 नवम्बर 1939 की है। गांधी जी को दाढ़ी बनवाने के लिए एक नाई की ज़रूरत थी। जवाहरलाल नेहरू जी के निजी सचिव उपाध्याय जी ने एक नाई को बुलवाया। उस नाई का नाम पुन्नीलाल था। उपाध्याय जी ने उन्हें गांधी जी के पास जाने के पहले खादी के कपड़े पहनने के लिए दिया। जल्दबाजी में किए गए इस काम के कारण कपड़े पुन्नीलाल को फिट नहीं आ रहे थे, फिर भी उन्हें पहनकर पुन्नीलाल खाफ़ी ख़ुश था।

वह आनंद भवन की दूसरी मंजिल पर पहुंचा। वहां गांधी जी अखबार पढ़ रहे थे। नाई को देखकर बोले, “अरे, तुम आ गए! तुम अच्छा बाल-दाढ़ी बनाते हो न?”

नाई ने विनम्रता से मुस्कुराते हुए हां में सिर हिलाया। उसने पहले गांधी जी के बाल बनाए फिर दाढ़ी बनाने लगा। इस दौरान गांधी जी उसके साथ हंसी-मज़ाक़ करते रहे। बोले, “लगता है कि तुम हमेशा खादी पहनते हो।”

पुन्नीलाल मासूमियत से बोला, “नहीं। ये कपड़े तो मैंने आज ही पहने हैं।”

उसका सच बोलना गांधी जी को बहुत अच्छा लगा। इस बीच उपाध्याय जी भी वहां आ गए थे। उन्होंने गांधी जी की दाढ़ी बनाते हुए पुन्नीलाल का फोटो खींचा। दाढ़ी-बाल बन चुका था। गांधी जी को प्रणाम कर पुन्नीलाल जाने लगा। बापू ने उसके कंधे पर हाथ रखकर कहा, “तुम अच्छा बाल बनाते हो।”

चुन्नीलाल ने भोलेपन से कहा, “तो मुझे सर्टीफिकेट दीजिए।”

बापू ने कहा, “जब तक तुम अच्छा काम करते रहोगे, तब तक सर्टीफिकेट की ज़रूरत ही क्या है?”

लकिन पुन्नीलाल तो फीछे ही पड़ गया। उसकी हठ के आगे गांधी जी राज़ी हो गए। उपाध्याय जी से काग़ज़ मंगवा कर गांधी जी ने लिखा,

आनंद भवन, इलाहाबाद

भाई पुन्नीलाल ने बड़े भाव से अच्छी तरह मेरी हजामत की है। उनका उस्तरा देहाती है और बग़ैर साबुन के हजामत करते हैं।

मो.क. गांधी

23.11.1939

पुन्नीलाल की ख़ुशी का ठिकाना न रहा। उसे तो लगा कि दुनिया की सबसे क़ीमती चीज़ उसके हाथों में है। जवाहरलाल जी ने उसे दो रुपए दिए। उपाध्याय जी से फोटो तो मिला ही। एक भाई उसे सौ रुपए देने लगा। पुन्नीलाल ने लेने से मना कर दिया। बोला, “यह फोटो और यह प्रशस्तिपत्र मेरे लिए अनमोल हैं। और मुझे कुछ नहीं चाहिए। मेरा मेहनताना दो रुपए थे, वह तो नेहरू जी ने मुझे दे ही दिया है।”

***

प्रेरक प्रसंग – 1 : मानव सेवा, प्रेरक-प्रसंग-2 : सहूलियत का इस्तेमाल, प्रेरक प्रसंग-3 : ग़रीबों को याद कीजिए, प्रेरक प्रसंग-4 : प्रभावकारी अहिंसक शस्त्र, प्रेरक प्रसंग-5 : प्रेम और हमदर्दी, प्रेरक प्रसंग-6 : कष्ट का कोई अनुभव नहीं, प्रेरक प्रसंग-7 : छोटी-छोटी बातों का महत्व, प्रेरक प्रसंग-8 : फूलाहार से स्वागत, प्रेरक प्रसंग-९ : बापू का एक पाप, प्रेरक-प्रसंग-10 : परपीड़ा, प्रेरक प्रसंग-11 : नियम भंग कैसे करूं?, प्रेरक-प्रसंग-12 : स्वाद-इंद्रिय पर विजय, प्रेरक प्रसंग–13 : सौ सुधारकों का करती है काम अकेल..., प्रेरक प्रसंग-14 : जलती रेत पर नंगे पैर, प्रेरक प्रसंग-15 : वक़्त की पाबंदी,प्रेरक प्रसंग-16 : सफ़ाई – ज्ञान का प्रारंभ, प्रेरक प्रसंग-17 : नाम –गांधी, जाति – किसान, धंधा ..., प्रेरक प्रसंग-18 : बच्चों के साथ तैरने का आनंद, प्रेरक प्रसंग-19 : मल परीक्षा – बापू का आश्चर्यजनक..., प्रेरक प्रसंग–20 : चप्पल की मरम्मत, प्रेरक प्रसंग-21 : हर काम भगवान की पूजा,प्रेरक प्रसंग-22 : भूल का अनोखा प्रायश्चित, प्रेरक प्रसंग-23 कुर्ता क्यों नहीं पहनते? प्रेरक प्रसंग-24 : सेवामूर्ति बापू प्रेरक प्रसंग-25 : आश्रम के नियमों का उल्लंघन प्रेरक प्रसंग–26 :बेटी से नाराज़ बापू प्रेरक प्रसंग-27 : अपने मन को मना लिया प्रेरक प्रसंग-28 : फ़िजूलख़र्ची प्रेरक प्रसंग-29 : एक बाल्टी पानी

13 टिप्‍पणियां:

  1. सच ||

    अविस्मरणीय पल हैं वे ।

    पुन्नी लाल के जीवन के ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह ... पुन्नी लाल ने दाढ़ी बनाने की खूब कीमत ली

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...
    आपकी यह प्रविष्टि कल दिनांक 02-04-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर लिंक की जा रही है। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच्चाई का सुंदर इनाम ... बढ़िया प्रसंग ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. सचाई, निश्छलता और ईमानदारी.. और गांधी जी का कहना कि अच्छे काम के लिए सर्टिफिकेट की क्या आवश्यकता.. प्रेरक!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक समय वह था कि नाई तक को पता थी गांधी की क़ीमत। एक समय आज का है कि पढ़े-लिखे युवा भी गांधी की जब-तब आलोचना करते दिखते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक दौर था जब कहा जाता था -सांच को आंच कहाँ .एक दौर यह है सच बोलने वाले को रामदेव बना दिया जाता है .तब नाइ भी ईमानदार था और अब रामलाल डबल बेद का गद्दा हजार के नोटों का बनाता है .

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर प्रसंग और दुर्लभ चित्र सर....
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें