बुधवार, 25 अप्रैल 2012

हथौड़ा अभी रहने दो – अज्ञेय


हथौड़ा अभी रहने दो – अज्ञेय


सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय

हथौड़ा अभी रहने दो
अभी तो हन भी हम ने नहीं बनाया।
धरा की अन्ध कन्दराओं में से
अभी तो कच्चा धातु भी हम ने नहीं पाया।

और फिर वह ज्वाला कहाँ जली है
जिस में लोहा तपाया-गलाया जाएगा –-
जिस में मैल जलाया जाएगा?

आग, आग, सब से पहले आग !
उसी में से बीनी जाएंगी अस्थियाँ;
धातु जो जलाया और बुझाया जाएगा

बल्कि जिस से ही हन बनाया जाएगा –-
जिस का ही तो वह हथौड़ा होगा
जिस की ही मार हथियार को
सही रूप देगी, तीखी धार देगी।

हथौड़ा अभी रहने दो :
आओ, हमारे साथ वह आग जलाओ
जिस में से हम फिर अपनी अस्थियाँ बीन कर लाएंगे,
तभी हम वह अस्त्र बना पाएंगे
जिस के सहारे
हम अपना स्वत्व – बल्कि अपने को पाएंगे।

आग – आग --- आग दहने दो :
हथौड़ा अभी रहने दो !

14 टिप्‍पणियां:

  1. हथौड़ा अभी रहने दो !

    हथियारों की बात से बचना ही ठीक है
    वर्ना अस्थि बचेगी न पंजर।
    जब चलेंगे हर ओर बस ख़ंजर ही ख़ंजर।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अभी आग की ही जरुरत है ..
    बहुत ही सुन्दर .

    उत्तर देंहटाएं
  3. हथौड़ा अभी रहने दो :
    आओ, हमारे साथ वह आग जलाओ
    जिस में से हम फिर अपनी अस्थियाँ बीन कर लाएंगे,
    तभी हम वह अस्त्र बना पाएंगे
    जिस के सहारे
    हम अपना स्वत्व – बल्कि अपने को पाएंगे।

    एक सैनिक होने के नाते अज्ञेय जी अपनी कविताओं में मानव मन के अस्तित्व-बोध को सर्वदा साक्षात्कार कराने में समर्थ रहे हैं । उनकी उपर्युक्त पक्तियां मानव- अस्तित्व के तलाश की परिचायक हैं । उनकी यह कविता एवं आपका चयन प्रसंशनीय है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. श्रधेय अज्ञेय जी का जीवन के प्रति वात्सल्य , मोह , किसी भी अतिवादिता को पार कर सार्थक सुखद स्वरुप देने का यत्न ही, उनको आदर्श बनाता है अग्रणी विचारों में .....कालजयी कवि की कालजयी कविता , नमन आप दोनों को ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहतरीन कविता पढ़वाने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी पोस्ट कल 26/4/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें

    चर्चा - 861:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍‍तुति के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. महाकवि अज्ञेय की इस श्रेष्ठ कृति को पढवाने के लिये आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  9. अज्ञेय जी की कविता पढ़वाने के लिए बहुत बहुत आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  10. हथौड़ा अभी रहने दो :
    आओ, हमारे साथ वह आग जलाओ
    जिस में से हम फिर अपनी अस्थियाँ बीन कर लाएंगे,
    तभी हम वह अस्त्र बना पाएंगे
    जिस के सहारे
    हम अपना स्वत्व – बल्कि अपने को पाएंगे।

    निशब्द हूं... उम्दा ... आभार !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय जी की खूबसूरत रचना पढाने का बहुत २ शुक्रिया |

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें