रविवार, 15 अप्रैल 2012

प्रेरक प्रसंग-32 : अंधविश्वास को मिटा देना है!

प्रेरक प्रसंग-32

clip_image002

प्रस्तुत कर्ता : मनोज कुमार

gandhi (10)साबरमती आश्रम में कई बच्चों को चेचक हो गया। बच्चों के इस दुख से बापू काफ़ी द्र्वित हुए। उन बच्चों की सेवा बापू स्वयं करते थे। उन्हें रोज़ गरम पानी में पोटाशियम परमैग्नेट मिलाकर टब में स्नान कराते थे।

उन दिनों गांधी जी के पोते कनु गांधी को चेचक निकली थी। गांधी जी ने उनके लिए भी वही इलाज करने को कहा। कनु गांधी की दादी ने यह सुनकर कहा, “आपको मालूम नहीं क्या, चेचक में पानी छुलाने की भी मनाही की गई है। और आप हैं कि इसे पानी के टब में बिठाने की बात कर रहे हैं। ऐसा नहीं होगा। इससे ‘माता’ नाराज़ हो जाएंगी।”

बापू ने उन्हें समझाते हुए कहा, “भाभी आप मत घबड़ाएं। ये सब अंधविश्वास है। पानी में नहलाने से ‘माता’ नाराज़ नहीं होतीं। इस आश्रम कई बच्चों को चेचक निकली है। सबका यही इलाज मैंने किया है। आज तक तो किसी से ‘माता’ नाराज़ नहीं हुईं। फिर वो कनु से कैसे नाराज़ हो जाएंगी। हमें इन पुराने रीति-रिवाज़ों, अंधविश्वासों और मान्यताओं को छोड़ना चाहिए। अगर हम ही इसे नहीं छोड़े तो हम दूसरों को कैसे कह सकेंगे? आप परेशान न हों, इसे कुछ नहीं होगा।”

कनु की दादी को गांधी जी पर पूरा विश्वास था। उन्होंने गांधी जी की बात मान ली। कनु को गरम पानी की टब में बिठाकर स्नान कराया गया। सात दिनों के बाद कनु एकदम स्वस्थ और तंदरुस्त हो गए। दादी भी काफ़ी खुश हुईं।

   *** *** ***
प्रेरक प्रसंग – 1 : मानव सेवा, प्रेरक-प्रसंग-2 : सहूलियत का इस्तेमाल, प्रेरक प्रसंग-3 : ग़रीबों को याद कीजिए, प्रेरक प्रसंग-4 : प्रभावकारी अहिंसक शस्त्र, प्रेरक प्रसंग-5 : प्रेम और हमदर्दी, प्रेरक प्रसंग-6 : कष्ट का कोई अनुभव नहीं, प्रेरक प्रसंग-7 : छोटी-छोटी बातों का महत्व, प्रेरक प्रसंग-8 : फूलाहार से स्वागत, प्रेरक प्रसंग-९ : बापू का एक पाप, प्रेरक-प्रसंग-10 : परपीड़ा, प्रेरक प्रसंग-11 : नियम भंग कैसे करूं?, प्रेरक-प्रसंग-12 : स्वाद-इंद्रिय पर विजय, प्रेरक प्रसंग–13 : सौ सुधारकों का करती है काम अकेल..., प्रेरक प्रसंग-14 : जलती रेत पर नंगे पैर, प्रेरक प्रसंग-15 : वक़्त की पाबंदी,प्रेरक प्रसंग-16 : सफ़ाई – ज्ञान का प्रारंभ, प्रेरक प्रसंग-17 : नाम –गांधी, जाति – किसान, धंधा ..., प्रेरक प्रसंग-18 : बच्चों के साथ तैरने का आनंद, प्रेरक प्रसंग-19 : मल परीक्षा – बापू का आश्चर्यजनक..., प्रेरक प्रसंग–20 : चप्पल की मरम्मत, प्रेरक प्रसंग-21 : हर काम भगवान की पूजा,प्रेरक प्रसंग-22 : भूल का अनोखा प्रायश्चित, प्रेरक प्रसंग-23 कुर्ता क्यों नहीं पहनते? प्रेरक प्रसंग-24 : सेवामूर्ति बापू प्रेरक प्रसंग-25 : आश्रम के नियमों का उल्लंघन प्रेरक प्रसंग–26 :बेटी से नाराज़ बापू प्रेरक प्रसंग-27 : अपने मन को मना लिया प्रेरक प्रसंग-28 : फ़िजूलख़र्ची प्रेरक प्रसंग-29 : एक बाल्टी पानी प्रेरक प्रसंग-30 : पुन्नीलाल नाई और गांधी जी प्रेरक प्रसंग-31 : साधारण दिखने वाले व्यक्ति

9 टिप्‍पणियां:

  1. waah.....prerak prasang padhne kesath-sath acchi jankari bhi ...thanks.nd aabhar manoj jee...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर वाह!
    आपकी यह ख़ूबसूरत प्रविष्टि कल दिनांक 16-04-2012 को सोमवारीय चर्चामंच-851 पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह अंधविश्वास बहुत गहरे पैठा हुआ था...
    प्रेरक प्रस्तुति।
    सादर आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रेरक प्रसंग .... अंधविश्वास मुश्किल से ही टूटते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  5. गाधी जी की शिक्षा...अंधविश्वास से दूर ही राना चाहिए!...बहुत सुन्दर प्रस्तुति!...आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रेरक प्रसंग ...सादर आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  7. गांधी जी का सुंदर प्रेरक प्रस्तुति,...

    उत्तर देंहटाएं
  8. अंधविश्वास आसानी से नहीं छूट पाता उसे छुड़ाने के लिए गांधी जैसा व्यक्ति का निकट होना बेहद आवश्क है। जो आज कि दुनिया में संभव ही नहीं। प्रेरणात्मक पोस्ट आभार

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें